लॅक डाउन हटने के बाद शहर में बढी चहल पहल, लगा जाम।


 सेन्ट्रल डेस्क

सीवान:{SIWAN} लॅक डाउन के खुलने के दुसरे दिन बाजारों में बढी चहल पहल।  दोपहर 12 बजे का समय, स्थान दरबार रोड़ लगा जाम। सामानों की खरीदारी करते लोग लेकिन, उनके बीच सावधानी की परख कम। कोई सामान ले रहा है तो कोई यूं ही केवल मोलभाव कर रहा है। इससे अलग ऐसा भी व्यक्ति खड़ा हो सामान लेने नहीं गया है बल्कि, घूमने के लिए निकला है। देश के प्रधानमंत्री से लेकर जिलाधिकारी तक लोगों से सामाजिक दूरी बनाने की अपील कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि घर में रहने से ज्यादा सुरक्षा कहीं नही है। बावजूद, लोग मानने को तैयार नहीं हैं। लॉक डाउन खुलने के बाद भी बेवहज लोगों का सड़क पर निकलना जारी है। खासकर शहरों में। इस दौरान सामाजिक दूरी का कोई औचित्य वहां नजर नहीं आ रहा है। कई बार लोग एक जगह इकट्ठा खड़े नजर आ रहे हैं। ऐसा लग रहा है जैसे बार-बार कहने के बाद भी लोगों के भेजे में यह बात नहीं घूस रही है कि सामाजिक दूरी बनाकर रहने से ही इसके संक्रमण को समाज में फैलने से रोका जा सकता है। कोरोना संक्रमण के कारण लगे पाबंदियों के 68 दिन बाद बाजार फिर से गुलजार हो उठा है। अनलॉक वन के तहत मिली छूट में मंगलवार को दुकानें पूर्ववत खुली। वाहनों का परिचालन प्रारंभ होने के बाद लंबे समय से घरों में बैठे लोग अब बाहर निकलने लगे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों से भी लोग बाजारों में पहुंचने लगे हैं। सुबह से ही दुकानें खुलने लगी थी। जबकि दोपहर तक बाजारों में काफी चहल पहल बनी रही। जबकि दोपहर बाद शहरी क्षेत्र के लोग भी खरीदारी को लेकर निकले थे। हालांकि कोरोना संक्रमण को लेकर लोगों में दहशत है। लेकिन लंबे समय बाद बाजार खुलने के कारण काफी भीड़भाड़ रही। बाजार खुलने के साथ ही व्यापारिक गतिविधियां तेज होने से कारोबार में भी तेजी आई है। कपड़ा व रेडीमेड की दुकानों में भी काफी भीड़भाड़ रही। वहीं अन्य दुकानों में भी ग्राहक जुटे रहे। हालांकि सार्वजनिक परिवहन के तहत बसों का परिचालन दोपहर बाद तक शुरू नहीं हो पाया था। बताया गया कि अधिकांश यात्री बसों के प्रवासी मजदूरों को उनके गृह जिला तक पहुंचाने के उपयोग में लाए जाने के कारण बस का परिचालन अन्य जिलों के लिए शुरू नहीं हो पाया। सड़कों पर ऑटो व ई-रिक्शा का भी परिचालन शुरू हुआ। लेकिन इसकी संख्या दुसरे दिन देखी गई। बाजार खुलने के बाद खरीदारी के लिए उमड़ी भीड़ के कारण जेपी चौक दरबार रोड़ सहित अन्य मुख्य मार्गों पर जाम की स्थिति भी देखी गई। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में दुकानें खुलने के कारण लोगों की आवाजाही बढ़ी है। इसी बहाने अर्थव्यवस्था को पटरी पर पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है। बता दें कि लंबे समय से बाजार बंद रहने के कारण जहां व्यापारियों को नुकसान का सामना करना पड़ रहा था, वहीं रोजगार पर भी ग्रहण लगा हुआ था। व्यवसायिक गतिविधि प्रारंभ होने के कारण लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं है। अनाज से लेकर सब्जी मंडी तक पहले की अपेक्षा गुलजार दिख रहे हैं। जबकि भवन निर्माण से लेकर हार्डवेयर तक की दुकानें ग्राहकों से पटी रही। अगले एक दो दिनों में व्यवसाय को गति मिलने की उम्मीद है। जबकि लंबे समय से छुट्टी पर रहने वाले दुकानों में काम करने वाले लोगों को भी रोजगार मिलना शुरू हो गया है।

Post a Comment

0 Comments