Coronavirus: देश में पिछले 24 घंटों में 128 लोगों की मौत, 63 हजार पहुंची संक्रमित मरीजों की संख्या

नई दिल्ली: देश में जानलेवा कोरोना वायरस का खतरा दिन पर दिन और बढ़ता जा रहा है. लॉकडाउन के बावजूद नए मामलों की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों में 128 लोगों की मौत हुई है. वहीं 3277 नए मामले सामने आए हैं. स्वास्थ्य मंंत्रालय के मुताबिक अबतक 62 हजार 939 लोग संक्रमित हो चुके हैं. वहीं 2109 लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि 19 हजार 358 लोग ठीक भी हुए हैं. जानें आपके राज्य में कोरोना वायरस का क्या हाल है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा 779, गुजरात में 472, मध्य प्रदेश में 215, पश्चिम बंगाल में 171, राजस्थान में 106, दिल्ली में 73, उत्तर प्रदेश में 74, आंध्र प्रदेश में 44,  तमिलनाडु में 44, तेलंगाना में 30,  कर्नाटक में 30, पंजाब में 31,  जम्मू-कश्मीर में 9, हरियाणा में 9, केरल में 4, झारखंड में 3, बिहार में 5, उत्तराखंड 1, असम में दो, हिमाचल प्रदेश में दो, ओडिशा में दो, चंडीगढ़ और मेघालय  में एक मौत हुई है.

टीका विकसित करने के लिए BBIL के साथ काम कर रही है ICMR

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) कोविड-19 का पूर्ण स्वदेशी टीका विकसित करने के लिए भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड (बीबीआईएल) के साथ मिलकर काम कर रही है. एक बयान में बताया गया कि टीके का विकास आईसीएमआर के पुणे स्थित राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (एनआईवी) में अलग किए गए वायरस के ‘उप-प्रकार’ का इस्तेमाल कर किया जाएगा.

भारत में बहुत बुरे हालात पैदा होने की आशंका नहीं- हर्षवर्धन

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि भारत में कोविड-19 महामारी के चलते कई विकसित देशों की तरह बहुत बुरे हालात पैदा होंगे, फिर भी सरकार पर्याप्त तैयारी कर रही है. हर्षवर्धन ने कहा कि देश में संक्रमण के मामलों की दर दोगुनी होने की अवधि बीते तीन दिन से लगभग 11 दिन रही है जबकि बीते सात दिन के दौरान यह 9.9 दिन आंकी गई है.

देश की स्वास्थ्य संबंधी तैयारियों के बार में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए 1,65,991 बिस्तरों वाले 8,043 अस्पताल और 1,35,643 बिस्तरों वाले कोरोना वायरस समर्पित 1,991 स्वास्थ्य केंद्र तैयार हैं जिनमें पृथक वार्ड और आईसीयू की व्यवस्था है.

Post a comment

0 Comments