हंदवाड़ा में शहीद संतोष कुमार मिश्रा के चार साल के बेटे ने जब दी पिता को मुखाग्नि, रो पड़ा पूरा गांव

गया। जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा (Handwara) में हुए आतंकी मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए बिहार के लाल औरंगाबाद के सीआरपीएफ कांस्टेबल शहीद संतोष कुमार मिश्रा का पार्थिव शरीर विशेष विमान से आज गया इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उतरा। जहां सीआईएसएफ के आईजी राजकुमार, डीएम अभिषेक सिंह, एसएसपी राजीव मिश्रा, एयरपोर्ट के मुख्य सुरक्षा अधिकारी बलवंत कुमार व इंस्पेक्टर पीयूष कुमार ने श्रद्धजलि दी। उसके बाद तिरंगे में लिपटा शव औरंगाबाद जिले के गोह प्रखंड के देवहारा उनके पैतृक गांव के लिए रवाना हुआ, जहां आज राजकीय समारोह के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया।

शव पहुंचने पर पूरा गांव शहीद के अंतिम दर्शन को उमड़ा पड़ा। जिस रास्ते से उनके शव का वाहन लाया जा रहा था सड़क के दोनों ओर काफी संख्या में लोग खड़े थे। भारत मात की जय के जयकारे से पूरा इलाका गूंज रहा था। शहीद संतोष अमर रहें के नारे लग रहे थे। शव के घर पहुंचते ही परिजनों की चीख-पुकार मच गई। शहीद को पूरे गांव ने भावभीनी श्रद्धांजलि दी। फिर पूरी सम्मान के साथ शहीद संतोष मिश्रा का अंतिम संस्कार किया गया। जब उनके चार साल के बेटे ने पिता को मुखाग्नि दी, पूरा गांव ये दृश्य देखकर रो पड़ा।

जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा इलाके में हुए आतंकी मुठभेड़ में तीन जवान शहीद हो गए थे, जिसमें बिहार के औरंगाबाद जिले के गोह प्रखंड के छोटे से कस्बे देवहरा बाजार निवासी स्वर्गीय जगमोहन मिश्र के सुपुत्र संतोष मिश्रा भी शहीद हो गए थे। बता दें कि नार्थ कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा के एक नाके पर आतंकियों ने हमला कर दिया था जिसका हमारे जवानों ने डटकर जवाब दिया था।

सीआरपीएफ जवान संतोष मिश्रा 92 बटालियन में थे और 2004 में उन्होंने सेना ज्वाइन किया था। तीन भाइयों में दूसरे नंबर पर रहे संतोष की शादी 2009 में आरा जिले के बजनिया गांव में हुई थी। उनकी पत्नी का नाम दुर्गा देवी है और दोनों का चार साल का एक बेटा आदर्श है,जो देवहरा में ही परिजनों के साथ रहते हैं। शहीद संतोष मिश्रा के बड़े भाई का नाम विजय जबकि छोटे का नाम मंतोष मिश्रा है।

मुख्यमंत्री ने जताया शोक

संतोष की शहादत की खबर गांव में पहुंचते ही पूरे गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया। बता दें कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शहीद संतोष के प्रति गहरा शोक जताते हुए कहा कि शहीद की शहादत को हमारा देश हमेशा याद रखेगा। उन्होंने कहा था कि गर्व है कि बिहार के एक सपूत ने आतंकियों से लोहा लेते हुए अपनी जान गंवा दी। उनकी शहादत को बिहार हमेशा याद रखेगा।

Post a Comment

0 Comments